IPLक्रिकेट

सचिन तेंदुलकर ने आईपीएल 2010 में ही बता दिया था क्यों कहा जाता है उन्हें क्रिकेट का भगवान

भारत के पूर्व दिग्गज क्रिकेटर सचिन तेंदुलरकर (Sachin Tendulkar) ने क्रिकेट इतिहास में कई मुकाम अपने नाम किए हैं। कुछ ऐसे रिकॉर्ड उनके नाम है जिसे तोड़ पाना आज के युग के क्रिकेटरों के लिए काफी मुश्किल है। चाहे वो इंटरनेशनल क्रिकेट में 100 शतक हो या फिर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन बनाने का रिकॉर्ड।

सचिन ने केवल अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट (International Cricket) में ही अपने बल्ले से रिकॉर्ड नहीं बनाए है बल्कि वह आईपीएल जैसे टी-20 टूर्नामेंट में भी काफी प्रभावी रहें है। सचिन ने आईपीएल के तीसरे संस्करण में सबसे ज्यादा रन बनाकर ऑरेंज कैप के खिताब पर कब्जा किया था।

सचिन तेंदुलकर इंडियन प्रीमियर लीग में लगातार 6 साल मुंबई इंडियंस (Mumbai Indians) के लिए खेले है। लीग के शुरूआती दो संस्करणों में सचिन का बल्ले पूरी तरह से खामोश रहा था। जिसके बाद आलोचकों ने यह तक कहना शुरू कर दिया था कि सचिन इस प्रारूप के लिए फिट नहीं बैठते हैं।

लेकिन कभी हार ना मारने की जिद के साथ सचिन तेंदुलकर ने आईपीएल के तीसरे संस्करण में अपनी बल्लेबाजी की बदौलत सबके मुंह पर ताला जड़ दिया। सचिन ने उस सीजन खेले 15 मैचों में 47.53 की औसत से 618 रन बनाए थे। उस दौरान सचिन के बल्ले से 5 अर्धशतक निकले थे। जिसकी बदौलत मुंबई इंडियंस की टीम आईपीएल के फाइनल में पहुंची थी।

आईपीएल 2010 (IPL 2010) के फाइनल मैच में चेन्नई सुपर किंग्स के खिलाफ भी सचिन तेंदुलकर ने 48 रन की पारी खेली थी लेकिन वह अपनी टीम को विजेता नहीं बना पाए। क्योंकि चेन्नई सुपर किंग्स की टीम ने फाइनल मैच 22 रन से जीता था।

सचिन तेंदुलकर ने अपने पूरे आईपीएल करियर में 78 मैच खेले है। जिसमें 1 शतक और 13 अर्धशतकों की मदद से 2334 रन बनाए हैं। जिसमें 295 चौके और 29 छक्के भी शामिल हैं।

Tags
Show More

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button
Close
Close

Adblock Detected

If you like our content kindly support us by whitelisting us Adblocker.