क्रिकेट
trending

BCCI का ये कैसा भेदभाव..? बराबरी के मामले में BCCI क्लीन बोल्ड, पुरुषवादी रवैया आया सामने..

पुरुष खिलाड़ियों का पता पूछ कर कोरोना टेस्ट करा रहा बोर्ड, महिला खिलाड़ियों से कहा खुद लेकर आओ रिपोर्ट, दोनों टीमों को साथ जाना है इंग्लैंड

विश्व क्रिकेट में अपनी अहम पहचान बनाने वाली बोर्ड का पुरुषवादी रवैया सामने आया है। जोकि अपने आप में एक बड़ी अफ़सोस वाली बात है। दरअसल, भारत क्रिकेट की पुरुष और महिला दोनों टीमों को इंग्लैंड दौरे पर जाना है। जिसके लिए बीसीसीआई ने पुरुष खिलाड़ियों से पता पूछ-पूछ कर कोरोना टेस्ट कराया है। इतना ही नहीं एक खिलाड़ी का एक नहीं दो नहीं, तीन-तीन बार COVID-19 टेस्ट हो रहा है।

वहीं, अगर बात की जाए महिला खिलाड़ियों की तो उन्हें कहा गया कि वे खुद टेस्ट कराएं और रिपोर्ट साथ लेकर आएं तभी उन्हें बायो बबल में एंट्री दी जाएगी। अब ध्यान देनें वाली बात यह है कि क्या बीसीसीआई का ये पुरुषवादी रवैया सही कहा जा सकता है, या यह एक बड़ी जांच का विषय है।

BCCI का डबल स्टैंडर्ड

बताते चलें कि इंग्लैंड दौरे पर महिला टीम के साथ जा रहीं दो खिलाड़ियों ने एक हिंदी अख़बार दैनिक भास्कर से बातचीत में कहा कि बोर्ड से सूचना प्राप्त होने के तुरंत बाद उन्होंने जांच करवाई। क्रिकेटर ने कहा कि रिपोर्ट मिलने में भी वक्त लगता है, इसलिए जल्दी जांच करवाई। बता दें कि महिला टीम 16 जून से 15 जुलाई तक इंग्लैंड में 1 टेस्ट, 3 वनडे और इतने ही टी-20 खेलेगी।

  • क्या है मामला.?

दरअसल, पुरुष टीम भी जून में इंग्लैंड दौरे पर रवाना होगी। वहां टीम को वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप फाइनल और इंग्लैंड के खिलाफ 5 टेस्ट की सीरीज खेलनी है। इसके मुताबिक, पुरुष और महिला टीम में शामिल सभी खिलाड़ी 19 मई से मुंबई में क्वारैंटाइन होंगे।

गौरतलब है कि यह प्रक्रिया मौजूदा समय की हालत देखते हुए सही भी है लेकिन क्या बीसीसीआई को जो सुविधा और सहूलियत पुरुष टीम को दी जा रही है महिला क्रिकेट टीम भी उसकी हकदार है क्योंकि दोनों ही देश के प्रति अपनी भूमिका निभा रहे हैं। आप भी अपनी राय कमेंट कर जरूर दें क्योंकि अगर बोर्ड ही भेदभाव करेगा तो क्रिकेट फैंस पर इसका क्या असर होगा।

Show More

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button
Close
Close

Adblock Detected

If you like our content kindly support us by whitelisting us Adblocker.