बैडमिंटन

बैडमिंटन वर्ल्ड फेडरेशन ने घोषित किया टूर्नामेंट कैलेंडर- साइना, कश्यप और प्रणीत ने व्यक्त की नाराजगी

भारतीय शटलर पारुपल्ली कश्यप, साइना नेहवाल और साई प्रणीत ने शुक्रवार को बैडमिंटन वर्ल्ड फेडरेशन (बीडब्ल्यूएफ) द्वारा घोषित शेष टूर्नामेंट कैलेंडर को देखते हुए अपनी नाराजगी व्यक्त की हैं। बीडब्ल्यूएफ ने शेच बचे बैडमिंटन सीजन के लिए खिलाड़ियों के शेड्यूल को बहुत व्यस्त बना दिया हैं। जिससे खिलाड़ी खुश नहीं है और अपनी नाराजगी व्यक्त करने के लिए उन्होंने ट्विटर पर ट्वीट किए हैं।

ट्वीटर पर बात करते हुए, पारुपल्ली कश्यप ने प्रतियोगिताओं के व्यस्त शेड्यूल की शिकायत की और लिखा, ” 5 महीने में 22 इवेंट है, ओके। और अभी तक अभ्यास भी शुरू नहीं किया गया है।।” उन्होंने अपने इस ट्वीट में अन्य खिलाड़ियों को भी ट्वीट किया और इस व्यस्त शेड्यूल पर उनसे उनकी राय मांगी।

साई प्रणीत ने ट्वीट किया और लिखा, ” मुझे आश्चर्य है कि कोई इस तरह टूर्नामेंट कैसे तय कर सकता है?”

कश्यप ने एक और ट्वीट किया और उसमें लिखा, “5 महीने का नॉन स्टॉप ट्रैवल?”

जिस पर प्रणीत ने जवाब दिया, “लोग यात्रा को कम करने के लिए कह रहे हैं और हम पहले से अधिक यात्रा करेंगे।”

दूसरी ओर साइना नेहवाल ने लिखा, “5 महीने की नॉन स्टॉप यात्रा में सबसे बड़ा सवाल यह है कि इस कोरोनोवायरस महामारी के दौरान अंतरराष्ट्रीय यात्रा के दिशानिर्देश क्या हैं?”

साइना ने आगे कहा कि महामारी के कारण टेनिस संस्था ने अक्टूबर तक अपने कैलेंडर या योजनाओं की घोषणा नहीं की है।

साइना ने ट्वीट करते हुए लिखा, ” टेनिस भी अक्टूबर तक किसी भी योजना के साथ नहीं आया है।” शुक्रवार को घोषित किए गए टूर्नामेंट कैलेंडर के अनुसार, पांच महीनों के भीतर 22 प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाएगा, जो एथलीटों के लिए एक बड़ा खतरा बन सकता हैं।

बीडब्ल्यूएफ वर्ल्ड टूर ताइपे ओपन 2020 से एक बार फिर बैडमिंटन शुरु करने के लिए तैयार है जो कि 1-6 सिंतबर के बीच खेला जाएगा। बैडमिंटन की गवर्निंग बॉडी का लक्ष्य 11-16 अगस्त से हैदराबाद ओपन 2020 के साथ खेल को फिर से शुरू करना है।

इसके विपरीत, अधिकांश शटलरों ने अभी तक लॉकडाउन और अन्य प्रतिबंधों के कारण अभ्यास करना शुरु भी नहीं किया हैं।

कोरोना महामारी के चलते कई देशों ने अभी तक अंतरराष्ट्रीय उड़ाने शुरु नहीं कि है तो ऐसे में खिलाड़ियों के लिए कई टूर्नामेंट में हिस्सा लेना भी मुश्किल हो सकता हैं। अगर ऐसे ही प्रतिबंध बनेंगे रहेंगे तो खिलाड़ी अगले साल टोक्यों ओलंपिक से पहले ज्यादा अभ्यास मैच नहीं खेल पाएंगे।

Tags
Show More

ankur patwal

Sports Journalist

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button
Close
Close

Adblock Detected

If you like our content kindly support us by whitelisting us Adblocker.