क्रिकेट
trending

भारतीय तेज गेंदबाज एस.श्रीसंत पर लगा 7 साल का बैन आज समाप्त

मैं अब हर तरह के आरोपों से फ्री हो चुका हूं और अब फिर से खेल सकता हूं। अब जब भी मुझे मौका मिलेगा, तो हर गेंद पर अपना बेस्ट दूंगा- एस. श्रीसंत

6 फरवरी, 1983 में केरल के कोठामंगलम में जन्मे तेज गेंदबाज एस. श्रीसंत के लिए आज बेहद खुशी का दिन हैं।

दरअसल भारतीय क्रिकेट टीम के खिलाड़ी एस. श्रीसंत (S.Sreesanth) को 2013 में आईपीएल में हुई मैच फिक्सिंग के आरोपों में दोषी पाए जाने पर बीसीसीआई (BCCI) ने उनके ऊपर आजीवन बैन लगाया था। हालांकि, बाद में इस सजा को घटाकर 7 साल कर दिया गया था।

गौरतलब है कि एस श्रीसंत पर आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग मामले में लगा 7 साल का बैन आज समाप्त हो गया है। साथ ही वे सोमवार से क्रिकेट खेलने के लिए पूर्ण रूप से आजाद हैं।

श्रीसंत ने अपनी खुशी जाहिर करते हुए कहा-

मैं अब हर तरह के आरोपों से फ्री हो चुका हूं और अब फिर से खेल सकता हूं। अब जब भी मुझे मौका मिलेगा, तो हर गेंद पर अपना बेस्ट दूंगा।

श्रीसंत ने अपने भविष्य के खेल करियर पर कहा, मेरे पास क्रिकेट खेलने के लिए ज्यादा समय नहीं है, महज 5 से 7 साल का और वक्त बचा है। लेकिन मैं भविष्य में जिस भी टीम से खेलूंगा उसके लिए अपना बेस्ट देने की पूरी कोशिश करूंगा।

बता दें कि उनके सात साल का बैन खत्म होने से पहले ही, केरला क्रिकेट एसोसिशन (kerala Cricket Association) ने क्रिकेट में उनकी वापसी को लेकर संकेत दिए थे।

केरला क्रिकेट एसोसिएशन का कहना है अगर श्रीसंत फिटनेस साबित करने में सफल रहते हैं तो वह रणजी ट्रॉफी के आगामी सत्र में टीम के लिए खेलते नजर आ सकते हैं।

गौरतलब है कि श्रीसंत अपनी फिटनेस पर काफी ध्यान देते नजर आते हैं। ऐसे में सभी को यही उम्मीद है कि वह फिटनेस टेस्ट अवश्य पास करेंगें। वहीं श्रीसंत की वापसी में घरेलू सीजन टलने से देरी हो सकती है।

हालांकि, कोरोना महामारी के कारण इस साल घरेलू क्रिकेट को स्थगित कर दिया गया है। बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली (BCCI President Sourav Ganguly) ने भी सभी स्टेट क्रिकेट एसोसिएशन को कड़े निर्देश दिए हैं कि हालात बेहतर होने पर ही घरेलू क्रिकेट शुरू किया जाएगा।

Tags
Show More

Amit Jha

अमित झा पत्रकारिता की पढ़ाई कर रहे हैं और इससे पहले लेखक के तौर पर मीडिया दरबार में काम करते थे, अब स्पोर्ट्सऑवर के लिए खेल के संबंध में लिखते है

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button
Close
Close

Adblock Detected

If you like our content kindly support us by whitelisting us Adblocker.