कुश्ती

मर्डर केस: दिल्ली पुलिस को ओलंपिक चैंपियन सुशील कुमार की तलाश, FIR में नाम दर्ज..

भारतीय पहलवान सुशील कुमार यूं तो पिछले कुछ वर्षों में कई बार विवादो में घिरे है लेकिन इससे पहले कभी भी खुद को इतने बड़ी मुशिबत्त में नहीं डाला था। ऐसा हम इसलिए कह रहे है क्योंकि सागर मर्डर केस में दिल्ली पुलिस को सुशील की तलाश है। क्योंकि सुशील पर पूर्व जूनियर नेशनल चैम्पियन सागर की हत्या और छत्रसाल स्टेडियम में हुई झड़प में शामिल होने का आरोप लगा है। इतना ही नहीं उनके खिलाफ FIR भी दर्ज की गई है। मामले में दिल्ली पुलिस जगह-जगह रेड कर रही है। पुलिस के मुताबिक घटना के बाद से सुशील लापता हैं।

क्या है पूरा मामला..?

दरअसल, दिल्ली के मॉडल टाउन इलाके में बने छत्रसाल स्टेडियम में पहलवानों के दो गुटों के बीच में हिंसक झड़प हुई . इस घटना में 5 पहलवान घायल हो गए जिसमें सभी पहलवानों को एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था. इस दौरान एक पहलवान (सागर) की इलाज के दौरान मौत हो गई है. बताया जा रहा है कि यह झगड़ा प्रॉपर्टी विवाद को लेकर हुआ। सागर और उसके दोस्त जिस घर में रहते थे, सुशील उसे खाली करने का दबाव बना रहे थे। इसी को लेकर मंगलवार देर रात स्टेडियम के अंदर पहलवानों के दो गुट आपस में भिड़ गए। पुलिस के मुताबिक, घटना रात में 1.15 से 1.30 के बीच स्टेडियम के पार्किंग एरिया में हुई। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची, तो वहां 5 गाड़ियां खड़ी मिलीं, साथ ही एक लोडेड डबल बैरल गन और 3 जिंदा कारतूस बरामद हुए। सागर और उसके 4 अन्य पहलवान साथियों को घायल अवस्था में अस्पताल में भर्ती कराया गया। इसमें सोनू (37), अमित कुमार (27) और 2 अन्य पहलवान शामिल थे।

दिल्ली पुलिस ने बताया कि वे सुशील कुमार की भूमिका की जांच कर रहे हैं, क्योंकि उन पर गंभीर आरोप लगाए गए हैं। फिलहाल प्रिंस दलाल समेत दो पहलवानों को हिरासत में लिया गया है और उनसे पूछताछ की जा रही है। तो वहीं इससे पहले सुशील कुमार ने इन आरापों को नकारा था।

IPL 2021 के स्थगित होने के बाद विराट  | मैदान में उतरे विराट-अनुष्काIPL पर कोरोना संकट|]

Show More

Sahil Sharma

Seo executive

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button
Close
Close

Adblock Detected

If you like our content kindly support us by whitelisting us Adblocker.