क्रिकेटखेल समाचार

जब एमएस धोनी टीम में होते हैं तो हमारे लिए कोई विकल्प नहीं बचता- रिद्धिमान साहा

रिद्धिमान साहा घरेलू सर्किट में अपने अंतरराष्ट्रीय डेब्यू से पहले काफी समय से सुर्खियां बटोर रहे थे। हालांकि, एमएस धोनी ने सालों तक टेस्ट लाइन में विकेटकीपर-बल्लेबाज के स्लॉट पर कब्जा किया, इससे साहा के भारतीय टीम में प्रवेश में देरी हुई। हालांकि, साहा ने धैर्यपूर्वक इंतजार किया और स्टंप की पीछे से अपनी कौशलताओं में लगतार सुधार करना जारी रखा।

साहा को धोनी की कप्तानी के कार्यकाल के दौरान भी लाल गेंद वाली क्रिकेट में भारतीय जर्सी पहनने का मौका मिला, उन्होंने कभी भी रांची में जन्मे क्रिकेटर के साथ टेस्ट से अधिक नहीं खेला। हालांकि कई लोगों का मानना है कि वह साहा थे जिन्होंने स्टंप के पीछे धोनी की जगह ली थी, लेकिन विकेटकीपर बल्लेबाज का कहना है कि 2014 में धोनी के रिटायरमेंट के बाद उन्होंने केवल धोनी के स्लॉट को भरा।

मुझे पता था अगर एमएस धोनी खेल रहे हैं तो मुझे खेलने का मौका नहीं मिलेगा- साहा

स्पोर्ट्स तक के साथ बातचीत में, साहा ने बताया कि कैसे उनके अंतर्राष्ट्रीय करियर ‘एमएस धोनी’ से प्रभावित था, “उनकी विकेटकीपिंग और बल्लेबाजी स्टाइल, सेकेंड में स्टंप करना और कई चीजे उनसे सीखने वाली कई चीजे थी। वह मुझे 2 से 4 साल बड़े है और मुझे पता था कि अगर एमएस धोनी खेल रहे है तो मुझे खेलने का मौका नहीं मिलेगा। कोई भी टीम से बाहर बैठना पसंद नहीं करता, लेकिन जब धोनी टीम में होते है तो और कोई विकल्प नहीं बचता। तो, मैंने उनसे अधिक से अधिक सीखा और जब मौका मिला प्रदर्शन किया। मैंने 2010 में दक्षिण अफ्रीका के खिलफ टेस्ट में डेब्यू किया था, मैंने धोनी से पूछा कीपिंग कौन करेगा? उन्होंने कहा, जाहिर है कि मैं करूंगा, आप एक अच्छे फील्डर हो, तुम फील्ड करना।”

अपने पदार्पण के बाद, साहा ने भारत के लिए अबतक 37 टेस्ट मैच खेले है जिसमें तीन शतक और 5 अर्धशतक लगाए हैं। उन्होंने बल्ले से भी कई बार अहम भूमिका निभाई है लेकिन उनको अपनी शानदार विकेटकीपिंग कौशलताओं के लिए जाना जाता हैं।

Tags
Show More

ankur patwal

Sports Journalist

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button
Close
Close

Adblock Detected

If you like our content kindly support us by whitelisting us Adblocker.