क्रिकेट
trending

फिर से भारतीय महिला क्रिकेट टीम के कोच बने रमेश पोवार, जानिए 2018 में क्यों हटाए गए थे..

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) ने गुरुवार को एक बड़ा ऐलान करते हुए भारत के पूर्व स्पिनर रमेश पोवार को भारतीय महिला क्रिकेट टीम का हेड कोच नियुक्त किया। बता दें कि रमेश पोवार दूसरी बार इस पद को संभालेंगे। इससे पहले वह 2018 में 5 महीने महिला टीम के कोच रह चुके हैं।

दरअसल, मदन लाल की अगुआई वाली Cricket Advisory Committee ने उनके नाम की सिफारिश की थी। इस कमेटी में सुलक्षणा नाइक, मदन लाल और रुद्र प्रताप सिंह शामिल हैं। जानकारी के लिए बता दें कि इस पद के लिए 35 लोगों ने आवेदन दिया था लेकिन फाइनल लिस्ट में 4 पुरुष और 4 ही महिला उम्मीदवार बचे।

पोवार पूर्व कोच वूरकेरी रमन को रिप्लेस करेंगे। रमन दिसंबर 2018 में महिला टीम के कोच बने थे। उनके अगुवाई में टीम 2020 T-20 वर्ल्ड कप के फाइनल में पहुंचने में कामयाब हुई थी। फाइनल में भारती टीम इ को ऑस्ट्रेलिया के हाथों हार का सामना जरूर करना पड़ा था लेकिन वर्ल्ड कप के बाद भारतीय महिला क्रिकेट की भारत समेत कई देशों में जमकर तारीफ हुई थी।

  • क्या था मिताली-पोवार विवाद?

2018 T-20 वर्ल्ड कप में मिताली को इंग्लैंड के खिलाफ सेमीफाइनल में टीम से बाहर कर दिया गया था। यह मैच भारत 8 विकेट से हार गया। इससे दो दिन पहले मिताली का एक पत्र सामने आया था, जो उन्होंने BCCI को लिखा था। इसमें उन्होंने पोवार पर अपमानित करने और उनका करियर तबाह करने की बात कही थी। जिसके बाद पोवार और मिताली में कई बार आरोप प्रत्यारोप का दौर जारी रहा था।

हालांकि, नवंबर 2018 में पोवार को कोच पद से हटा दिया गया और दिसंबर में वूरकेरी रमन को फुट टाइम कोच नियुक्त किया गया। वहीं, स्मृति मंधाना और हरमनप्रीत कौर समेत कई खिलाड़ियों ने BCCI को पत्र लिखकर पवार को कोच बनाए रखने की मांग की थी।

गौरतलब है कि मौजूदा समय में मिताली वनडे और हरमनप्रीत टी-20 फॉर्मेट में टीम इंडिया की कप्तान हैं। अब देखने वाली बात ये होगी की मिताली का बीसीसीआई के इस फैसले पर उनकी क्या प्रतिक्रिया सामने आती है।

Tags
Show More

Sahil Sharma

Seo executive

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button
Close
Close

Adblock Detected

If you like our content kindly support us by whitelisting us Adblocker.