क्रिकेटखेल समाचार
trending

सचिन तेंदुलकर के अलावा पाकिस्तान के इस खिलाड़ी ने भी खेले है 6 विश्वकप

सचिन तेंदुलकर ने अपनी अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट की शुरुआत 16 साल की उम्र में 1989 में की थी – और अगले 24 वर्षों तक अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट खेलते रहे। लंबी यात्रा के दौरान, वह सिर्फ दो पारंपरिक प्रारूपों में सबसे अधिक कैप्ड खिलाड़ी नहीं बने, बल्कि टेस्ट और वनडे में सर्वाधिक रन बनाने वाले खिलाड़ी भी बने। तेंदुलकर, जिन्होंने ‘रिकॉर्ड’ 200 टेस्ट खेले है, उन्होंनें सबसे लंबे प्रारूप में 15921 रन बनाकर अपने करियर की समाप्ति की। 463 एकदिवसीय मैचों में, मास्टर ब्लास्टर ने 18426 रन बनाए। भारतीय कप्तान विराट कोहली और ऑस्ट्रेलिया के स्टीव स्मिथ इन रिकॉर्डों को तोड़ने का एक मजबूत मौका रखते हैं, लेकिन उन्हें अभी लंबा रास्ता तय करना है।

तेंदुलकर ने अपने करियर को दो प्रारूपों में सबसे अधिक रन बनाने वाले खिलाड़ी के रूप में समाप्त करने के अलावा, छह रिकॉर्ड वर्ल्ड कप भी खेले है। भारत के पूर्व कप्तान ने 1992 में विश्व कप में पदार्पण किया और अगले पांच संस्करणों (1996, 1999, 2003, 2007 और 2011) को विभिन्न कप्तानों के अधीन में खेला। एमएस धोनी की अगुवाई वाली भारतीय टीम ने तेंदुलकर के आखिरी विश्वकप में खिताब पर कब्जा करवाया।

अपने फिटनेस स्तर की बदौलत तेंदुलकर इतने लंबे समय तक अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलने में सफल रहे। तेंदुलकर के छह विश्व कप खेलना का एक रिकॉर्ड है जो कभी भी टूटने की संभावना नहीं है, लेकिन बहुत से लोग यह नहीं जानते हैं कि वह इस उपलब्धि को हासिल करने वाले पहले खिलाड़ी नहीं थे। पाकिस्तान का एक खिलाड़ी है जिसने छह विश्व कप भी खेले हैं। उन्होंने तेंदुलकर के अंतिम विश्वकप खेलने से 15 साल पहले यह रिकॉर्ड बनाया था।

जावेद मियांदाद, जो 1975 से 1996 तक हर विश्व कप में खेले, वह छह विश्व कप खेलने वाले पहले खिलाड़ी थे। पाकिस्तान के दिग्गज ने 33 विश्व कप मैच खेले जिसमें उन्होंने 43.32 की औसत से 1083 रन बनाए। मियांदाद ने पाकिस्तान की 1992 विश्व कप जीत में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

उन्होंने तीसरे विकेट के लिए इमरान खान के साथ 139 रन की महत्वपूर्ण साझेदारी की और 249-6 के कुल स्कोर पर लाकर अपनी टीम को खड़ा किया। उस फाइनल मैच को पाकिस्तान ने 22 रन से जीता था।

मियांदाद ने 1993 के बाद टेस्ट क्रिकेट नहीं खेला, लेकिन 1996 में एक और विश्व कप में उपस्थिति दर्ज की। उनका अंतिम विश्वकप और अंतर्राष्ट्रीय उपस्थिति क्वार्टर फाइनल में भारत के खिलाफ थी, जहां मेन इन ब्लू ने 39 रन के अंतर से मैच जीतकर सेमीफाइनल में प्रवेश किया था।

1975 से 1996 के बीच में मियांदाद ने पाकिस्तान के लिए 124 टेस्ट और 233 वनडे मैच खेले थे।

Tags
Show More

Amit Jha

अमित झा पत्रकारिता की पढ़ाई कर रहे हैं और इससे पहले लेखक के तौर पर मीडिया दरबार में काम करते थे, अब स्पोर्ट्सऑवर के लिए खेल के संबंध में लिखते है

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button
Close
Close

Adblock Detected

If you like our content kindly support us by whitelisting us Adblocker.