क्रिकेट

टैलेंट की खान है भारत: गावस्कर, सचिन, द्रविड़, सहवाग, युवराज और रोहित से आगे बहुत कुछ बाकी है?

नई दिल्ली- एक समय था जब भारत को सोने की चिड़िया कहा जाता था, अंग्रेज आए सबकुछ लूट कर ले गए, लेकिन भारत एक ऐसी भी विरासत का मालिक है, जिसे न खरीदा जा सकता है और न ही लूटा जा सकता है। हम बात कर रहे है टैलेंट की, जो भारत देश में कूट-कूट के भरा हुआ है। 

टैलेंट की खान है भारत

भारत एक ऐसा देश है, जिसने दुनिया को एक से बढ़कर एक बल्लेबाज दिया है और आगे भी देते रहेंगे। सुनील गावस्कर, सचिन तेंदुलकर, राहुल द्रविड़, वीवीएस लक्ष्मण, सौरव गांगुली से लेकर युवराज सिंह, वीरेंद्र सहवाग, गौतम गंभीर, विराट कोहली और रोहित शर्मा जैसे बल्लेबाज दिए, यह सिलसिला आगे भी जारी रहेगा। इस बात पर आईपीएल के 13वें सीजन ने मुहर लगा दी है।

छोटे खिलाड़ियों का बोलबाला

इंडियन प्रीमियर लीग में फ्रेचाइंजी दुनिया के नामी गिरामी खिलाड़ियों पर बड़ा दांव लगाती है। लेकिन राहुल तेवतिया, मयंक अग्रवाल, देवदत्त पडिकल, संजू सैमसन, लोकेश राहुल और पृथ्वी शॉ जैसे बल्लेबाजों ने साबित कर दिया कि उनमें कितना दम है और ये खिलाड़ी दुनिया के नामी गिरामी खिलाड़ियों से बेहतर खेल सकते हैं। आईपीएल 13 में अबतक कुल 14 ही मैच खेले गए, जिनमें भारत के युवाओं ने जबरदस्त खेल दिखाया है और साबित किया है किया भारतीय क्रिकेट का भविष्य बहुत ज्यादा उज्जवल है।

भारत का उज्जवल भविष्य

1. मयंक अग्रवाल- पंजाब के सलामी बल्लेबाज मयंक अग्रवाल ने इस सीजन में शानदार बल्लेबाजी करते हुए सबका ध्यान अपनी ओर आकृषित किया है। आईपीएल 13 में दो शतक लगे है, जिनमें एक शतक मयंक के बल्ले से निकला था। 

2. देवदत्त पडिकल- आरसीबी के लिए विराट कोहली की कप्तानी में खेलने वाले देवदत्त पडिकल ने साबित कर दिखाया है। देवदत्त ने अपने ऑपनिंग मैच में 42 गेंदों में 8 चौकों की मदद से 56 रनों की बढ़िया पारी खेली थी। 
3. संजू सैमसन- आईपीएल के इस सीजन में ही नहीं बल्कि इसस् पहले भी संजू सैमसन खुद को कई बार साबित कर चुके हैं। इस आईपीएल में उन्होंने दो मुकाबले खेले है और दोनों में धूम मचाई है। चेन्नई के खिलाफ खेलते हुए संजू ने 9 छक्कों के बदोलत 32 गेंदों में 74 रन जड़ डाले थे। वहीं, पंजाब के खिलाफ 42 में 85 रनों की पारी खेलकर टीम को जीत दिलाने में अहम भूमिका निभाई थी।

4. पृथ्वी शॉ- दिल्ली के इस खिलाड़ी के अंदर टैलेंट की कोई कमी नहीं है, शॉ भारतीय टीम के लिए भी खेल चुके है और आगे भी उनके खेलने की बहुत उम्मीद है। इस सीजन में भी शॉ अच्छी फॉर्म में नजर आ रहे है। शॉ 43 गेंदों में 64 रनों की पारी खेल चुके हैं।

5. राहुत तेवतिया- राजस्थान की टीम का हिस्सा राहुल तेवतिया का नाम शायद ही 27 सितंबर में पहले कोई जानता होगा, लेकिन उनकी एक पारीने उन्हें रातों रात स्टार बना दिया। 31 गेंदों में 53 रन जड़कर तेवतिया ने राजस्थान को दिलाई थी।

6. लोकेश राहुल- पंजाब टीम के कप्तान लोकेश राहुल की काबिलियत से सभी परिचित है। विश्व कप 2019 में भारतीय टीम के लिए रोहित शर्मा के साथ ओपनिंग कर चुके हैं। आईपीएल13 में भी राहुल शानदार फॉर्म में नजर आ रहे हैं। लोकेश राहुल एक शतक भी लगा चुके हैं।

सफल हाथों में भारत की विरासत

इन सब के अलावा भारत के भविष्य के तौर पर सूर्यकुमार यादव, सौरभ तिवारी, नीतीश राणा ऋषभ पंत, श्रेस अय्यर जैसे खिलाड़ी लाइन में है और इन भी खिलाड़ियों में आगे चलकर भारत की विरासत संभालने की काबिलियत नजर आती है। 

भारत ने दुनिया के दिए बड़े बल्लेबाज

1. भारत ने क्रिकेट की दुनिया को सुनील गांवस्कर जैसा बल्लेबाज दिया, जो आगे चलकर लिटिल मास्टर के नाम जाना गया।

2. छोटा कद और छोटी उम्र में अपने करियर की शुरूआत करने वाले सचिन रमेश तेंदुलकर ने आगे जाकर बड़े-बड़े रिकॉर्ड अपने नाम किए। जिसके लिए उन्हें क्रिकेट की दुनिया का भगवान भी कहा जाने लगा।

3. सौरव गांगुली के बल्ले से लंबे-लंबे छक्के लगाने वाले सौरव गांगुली ने कई शानदाप पारियां खेली। आगे जाकर सौरव गांगुली के लिए कहा जाने लगा कि या तो ऑफ साइड में गांगुली शॉट लगा सकते है या फिर भगवान।

4. राहुल द्रविड़ ने क्रिकेट में अपना एक ही अलग मुकाम हासिल किया। शांत शैली के इस बल्लेबाज ने दुनिया के बड़े से बड़े गेंदबाज को पानी पिलाया। राहुल द्रविड़ को क्रिकेट की दुनिया में द वॉल कहा जाने लगा।

5. वीवीएस लक्ष्मण ऐसे बल्लेबाज है, जो ऑस्ट्रेलियाई टीम के लिए उस समय सिर दर्द साबित हुए जब उसके पास सबसे खतरनाक गेंदबाजी आक्रमण था। वीवीएस को वेरी-वेरी स्पेशल के नाम से जाना जाता है।

6. वीरेंद्र सहवाग एक ऐसे बल्लेबाज थे, जिन्होंने किसी भी गेंदबाज को सम्मान नहीं दिया। तेज या स्पिन हर गेंदबाज की जमकर धुनाई की। वीरेंद्र सहवाग को वीरे कहा जाता है।

7. बात अगर विश्व कप 2007(टी20) या विश्व कप 2011 की होगी तो युवराज का नाम सबसे ऊपर होगा। युवराज सिंह ने दोनों ही टूर्नामेंट जिताने में अहम भूमिका निभाई थी। 6 छक्के लगाने के बाद उन्हें सिक्सर किंग कहा जाने लगा।

8. रोहित शर्मा दुनिया के एकमात्र ऐसे खिलाड़ी है, जिन्होंने वनडे क्रिकेट में तीन बार दोहरे शतक लगाए है। वे भारतीय वनडे टीम के उप कप्तान है और क्रिकेट की दुनिया में उन्हें हिटमैन कहा जाता है।

Tags
Show More

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button
Close
Close

Adblock Detected

If you like our content kindly support us by whitelisting us Adblocker.